कतरा कतरा आग बन के


कतरा कतरा आग बन के 
जला रही है यादे तेरी•••

बरस के इश्क तू भी 
दिल की लगी बुझा

No comments:

Post a comment